Best WhatsApp And Fb Status in Hindi

“जाता हुआ मौसम लौटकर आया है… काश वो भी कोशिश करके देखे…” 
“दुआ होते तो कबूल भी हो जाते. खुदा ख्वाहिशे कहाँ पूरी करता है.” 
“दिन गुजर जाता हे तुम्हारी यादो के साथ मशला रात का हे खेर जाने दो.” 
“इश्क करने चला है तो कुछ अदब भी सीख लेना… ए दोस्त, इसमें हँसते साथ है पर रोना अकेले ही पड़ता है…” 
“मै रोता रहा रातभर मगर फैसला ना कर सका… तू याद आ रही है… या मै याद कर रहा हूँ… 
“मेरी कोशिश कभी कामयाब ना हो सकी, पहले तुझे पाने की फिर तुझे भुलाने की” 
“सुनो! तुम एक बार पुछ लो कि ‘कैसा हुँ’… घर मेँ पङी सारी दवाईयाँ ना फेँक दुँ तो कहना.” 
“जयादा लगाव ना रख मुझसे मेरे दुश्मन कहते है मेरी उम्र छोटी है डर मौत का नहीं तेरे अकेलेपन का है।” 
“मुझे इतना याद आकर बेचैन ना करो तुम, एक यही सितम काफी है कि साथ नहीं हो तुम…” 
“अजीब मेरा अकेलापन है… तेरी चाहत भी नहीं और तेरी जरूरत भी है…” 
“अगर वो मेरे मरने की खबर पूछे तो कह देना, कि… किसी की यादो मेँ था इतना खोया कि साँस लेना ही भुल गया…” 
“मुझे ढूंढने की कोशिश अब न किया कर… तूने रास्ता बदला तो मैंने मंज़िल बदल ली…” 
“अब क्या याद करने पर भी जुर्माना करोगे, वो भी चुका देंगे तो क्या बहाना करोगे…?” 
तुम ख़ुद उलझ जाओगे मुझे ग़म देने की चाहत मे, मुझमे हौंसला बहुत है मुस्कुराकर निकल जाऊँगा…” 
“बहुत याद आते हैं तुम्हारे साथ बिताए हुए पल, वरना मुझे मर – मर के जीने का कोई शौक नहीं.” 
“देख जिँदगी तू हमे रुलाना छोड दे अगर हम खफा हूऐ तो तूझे छोड देँगे” 
“सारी दुनियाँ की खुशी अपनी जगह, उन सब के बीच तेरी कमी अपनी जगह…” 
“तन्हा रहना तो सीख लिया हमने, लेकिन खुश कभी ना रह पाएंगे, तेरी दूरी तो फिर भी सह लेता ये दिल, लेकिन तेरी मोहब्बत के बिना ना जी पाएंगे.” 
“ऐ बादल! मेरी आँखे तुम रख लो… कसम सें बड़ी माहिर हैं बरसने मे…” 
“यूँ तो वजह बहूत हैं मेरे रूठ जाने की मगर… इस ख्याल से चुप हूँ कि मनायेंगा कौन…” 
“इश्क करने चला है तो कुछ अदब भी सीख लेना… ए दोस्त… इसमें हँसते साथ है पर रोना अकेले ही पड़ता है…!” 
“क़ाश कोई ऐसा हो, जो गले लगा कर कहे, तेरे दर्द से मुझे भी तकलीफ होती है…!” 
“पहले नहीँ पर अब सोचने लगे हैँ हम… जिँदगी के हर लम्हेँ मेँ तेरी जरुरत सी क्योँ लगती है…” 
“जयादा लगाव ना रख मुझसे मेरे दुश्मन कहते है मेरी उम्र छोटी है डर मौत का नहीं तेरे अकेलेपन का है।” 
“मुझे इतना याद आकर बेचैन ना करो तुम, एक यही सितम काफी है कि साथ नहीं हो तुम…” 
“अजीब मेरा अकेलापन है,,, तेरी चाहत भी नहीं और तेरी जरूरत भी है…” 
“उसके दिल में थोड़ी सी जगह माँगी थी मुसाफिरों की तरह… उसने तन्हाईयों का एक शहर मेरे नाम कर दिया…” 
“सबके कर्ज़े चुका दूं मरने से पहले, ऐसी मेरी नियतं हैं, मौंत से पहले तूं भी बता दे ज़िन्दगी, तेरी क्या किंमत हैं.” 
“प्यार से ‪प्यारी कोई ‪मजबूरी नहीं होती कमी ‪अपनों की ‪कभी पुरी नहीं होती ‪दिलों का जुदा होना एक अलग ‪बात हैं. ‎नजरों से जुदा होना कोई ‪दुरी नहीं होती…” 
“अब नींद से कहो हम से सुलह कर ले फ़राज़; वो दौर चला गया जिसके लिए हम जागा करते थे…” 
“तोड़ कर देख लिया आईना-ए-दिल तूने; तेरी सूरत के सिवा और बता क्या निकला।” 
“नहीं मिलेगा तुझे कोई हम सा, जा इजाजत है ज़माना आजमा ले!” 
“ऐ दिल थोड़ी सी हिम्मत कर ना यार, दोनों मिल कर उसे भूल जाते है…” 
“मोहब्बत ज़िंदगी बदल देती है… मिल जाए तो भी ना मिले तो भी…” 
“हिंदी भी अजीब भाषा है – घडी बिगड़ जाये तो कहते है – बंद है और लड़की बिगड़ जाये तो कहते है – चालू है.” 
“मैं खुल के हँस तो रहा हूँ फ़क़ीर होते हुए, वो मुस्कुरा भी न पाया अमीर होते हुये.” 
“कुछ नहीं है आज मेरे शब्दों के गुलदस्ते में, कभी कभी मेरी खामोशियाँ भी पढ लिया करो.” 
“वो अपनी ज़िंदगी में हुआ मशरूफ इतना वो किस-किस को भूल गया उसे यह भी याद नहीं.” 
“कैसे बनाऊँ तेरी यादों से दूरियां… दो कदम जाकर सौ कदम लौट आती हूँ…” 
“वो मुजे नफ़रत करें या प्यार करें मैं तो एक दीवाना हूँ.” 
“ख़ामोशी बहुत कुछ कहती हे कान लगाकर नहीं , दिल लगाकर सुनो…” 
“किसी को मेरे बारे में… पता कुछ भी नही, इल्जाम हजारो है और खता कुछ भी नही…” 
“टूटे हुए सपनो और छुटे हुए अपनों ने मार दिया वरना ख़ुशी खुद हमसे मुस्कुराना सिखने आया करती थी.” 
“गिरा दे जितना पानी है तेरे पास ऐ बादल. ये प्यास किसी के मिलने से बुझेगी तेरे बरसने से नही.” 
“ज़रुरत है मुझे कुछ नए, नफरत करने वालों की, पुराने वाले तो अब चाहने लगे हैं मुझे” 
“मुझे किसी को मतलबी कहने का कोई हक़ नहीं। मैं तो खुद अपने रब को मुसीबतों में याद करता हूँ ।” 
मौत की हिम्मत कहा थी मुझसे टकराने की… साली ने मोहब्बत को मेरी सुपारी दे डाली… 

Leave a Reply