Latest Love Barish Shayari (मोहब्बत बारिश शायरी )

एक बार उसने कहा था मेरे सिवा किसी से प्यार
ना करना !!!!
बस फिर क्या था,तब से मोह्हबत
की नज़र से हमने खुद को भी नहीं देखा 
कब तक तरसते रहेंगे
तुझे पाने की हसरत में…
दे कोई ऐसा जख्म
की मेरी सांस टूट जाए
और तेरी जान छूट जाए…  
कभी किसी मुसाफिर से प्यार ना करना
उनका ठिकाना बोहत दूर होता हैं
वो कभी बेवफा तो नही होते,
मगर उनका जाना ज़रूर होता हैं. 
ऐसा नहीं है की ,,अब तेरी चाहत नहीं रही,,
बस टूट टूट कर बिखरने की,, हिम्मत नहीं रही,, 
प्यार से चाहे सारे अरमान माँग लो ,
रूठकर चाहे मेरी मुस्कान माँग लो,
तमन्ना ये है कि ना देना कभी धोखा,
फिर हँसकर चाहे मेरी जान माँग लो. 
 तो क्या हुआ जो आप
नहीं मिलते हमसे…!!

मिला तो रब भी नहीं हमे,
मगर इबादत तो बंद नही की..!!
 वक्त बदलता है जिंदगी के साथ
जिंदगी बदलती है मोहब्बत के साथ

मोहब्बत नहीं बदलती अपनों के साथ
बस अपने बदल जाते हैं वक्त के साथ..!!

कहाँ मिलता है.. कभी कोई समझने वाला..
जो भी मिलता है.. समझा के चला जाता है.. 
जो दिलो में शिकवे और जुबान पर शिकायते कम रखते है
,,,
वो लोग हर रिश्ता निभाने का दम रखते हैं  
मुझे इकरार ऐ इश्क की कसम इश्क से से नहीं कभी इनकार है ,
मगर उन्हें तो अब मुझसे नफरत ऐ इकरार है ।
चाहता था हूँ और रहूंगा कि वो आज भी मेरा प्यार है । 
वो बेवफा नही थी शायद,
वो तो मुझ पर एहसान कर के चली गयी,

बेचारी खानदान की इजजत के लिए,
मेरी मोहबत को कुरबान कर के चली गयी.!!  

ये कुदरत से लहरों का जज्बात कुछ इस कदर खास है ।
बस इन्हीं खूबसूरत पलों और ख्यालों का अहसास है ।
कि कभी साहिल तो कभी समन्दर पास है । 
हमने भी कभी चाहा था,एक ऐसे शख्स को…
जो आइने से भी नाज़ुक था,मगर था पत्थर का….  
हम ने भी ज़िंदगी को तमाशा बना दिया..
उस से गुज़र गए कभी ख़ुद से गुज़र गए…!!!
शुभरात्रि दोस्त …  
तुम इक घड़ी… इक पल… इक लम्हा…
मेरे साथ बिताने का वादा तो करो
मैं हँस कर कई साल… कई सदियाँ…
कई जिंदगी तुम्हारा इंतजार कर लूँगा  
जीने की ख्वाहिश में हर रोज़ मरते हैं,
वो आये न आये हम इंतज़ार करते हैं,
झूठा ही सही मेरे यार का वादा है,
हम सच मान कर ऐतबार करते हैं ।~  
उनके आने की उमीद मे
हम भी चाँद दिए जलाए बैठे हैं
एक वक़्त आएगा जब ये दिए भी भुज जाएँगे
उस वक़्त हम भी इस दुनिया से उठ जाएँगे 
मुझे नहीं पता की ये बिगड़ गया या सुधर गया,
.
बस अब ये दिल किसी का भरोसा नहीं करता… 
Aakhen kholu to chehra tumhara ho,
Band karu to sapna tumhara ho,
Maar bhi jau to koi gam nahi,
Agar kafan ke badle achal tumhara ho. 
उनका वादा है के वो लौट आएँगे
इसी उम्मीद पर हम जीए जाएँगे
यह इंतेज़ार भी उन्ही की तरह प्यारा है
कर रहे थे कर रहे हाइन और किए जाएँगे 
रिश्ता खत्म करने से…
मोहब्बत कम नहीं होती
लोग तो उन्हें भी याद करते हैं…
जो दुनिया छोङ जाते हैं!! 
कितना खुशनुमा होगा वो,
मेरे इँतज़ार का मंजर भी,
जब ठुकराने वाले,
मुझे फिर से पाने के लिये आँसु बहायेंगे…!!!  
वो मुड़ मुड़ के देख रहे थे हमें,
हम मुड़ मुड़ के देख रहे थे उन्हें,
वो हमें, हम उन्हें,
हम उन्हें, वो हमें,
क्योंकि परीक्षा में …
न उन्हें कुछ आता था, न हमें !  
मेरी शायरियोँ से तंग आ जाओ,
तो बता देना मुझे,
वैसे भी मुझे नफरत पसन्द है
मगर दिखावे का प्यार नही….  
नां जांनें कितनें ख्वाँब पाल रखें है….
इंन आँखों की अौकांत तों देखों….!!
तुम सिर्फ मेरें हों …..
कैसें भूल सकतें हों…….? 
एक हसीन पल की जरूरत है हमें
बीते हुए कल की जरूरत है हमें..।।
सारा जहाँ रूठ गया हमसे
जो कभी ना रूठे ऐसे दोस्त की जरूरत है हमें।। 
Uske intezar ke maare hain hum
Bus uski yaadon ke sahaare hain hum
Duniya jeet kar kya karna hai ab
Jise duniya se jeeta tha,
Aaj usi se haare hain hum 
हर किसी को..
अपने दिल में उतनी जगह दो…
जितनी वो आपको देता है☹
वरना या तो खुद “रोओगे” या
वो आपको “रुलायेगा” 
छुपा लूं तुझको अपनी बाँहों में इस तरह,
कि हवा भी गुजरने की इजाज़त मांगे;
मदहोश हो जाऊं तेरे प्यार में इस तरह,
कि होश भी आने की इजाज़त मांगे! 
एक साँस भी पुरी नही होती तेरे ख्यालो के बिना,
तुमने ये कैसे सोचा कि हम जिदंगी गुजार देगे तेरे बिना…!!! 

Leave a Reply