Best WhatsApp And Fb Status in Hindi

“रुक रुक के लोग देख रहे है मेरी तरफ. तुमने ज़रा सी बात को अखबार कर दिया.” 
“अगर नींद आ जाये तो, सो भी लिया करो ! रातों को जागने से, मोहब्बत लौटा नहीं करती” 
“खाएं हैं लाखों धोखे..एक और सह लेंगे.. ♡ तू ले जा अपनी डोली..हम अपने जनाजे को बारात कह लेंगे..” 
“दिल बहलाने के लिये ही गुफ्तुगू कर लिया करो जनाब..! मालूम तो मुझे भी है के हम आपको अच्छे नही लगते…!!” 
“मेरे मुकद्दर में तो तेरी याद है लेकिन ! तू जिसके मुकद्दर में है उसे दिल से सलाम !!” 
“कितना नादान है ये दिल , कैसे समझाऊँ की, जिसे तू खोना नही चाहता हैं, वो तेरा होना नही चाहता है। 
“उम्र चाहे कितनी भी हो मेरी पर दिल आज भी तुम्हे बच्चों की तरह चाहता है।” 
“इस अजनबी दुनिया मैं किसी से दिल न लगाना, सुना है बिन बुलाये आने वाले बिन बताये ही चले जाते है..” 
“सुना है मोहब्बत उसको दुआयें देती है, जो दिल पर चोट तो खाये मगर ग़िला न करे! 
“शिकायत है उन्हें कि,हमें मोहब्बत करना नही आता,शिकवा तो इस दिल को भी है,पर इसे शिकायत करना नहीं आता” 
“तन्हा रहना तो सीख लिया हमने,लेकिन खुश कभी ना रह पाएंगे,तेरी दूरी तो फिर भी सह लेता ये दिल,लेकिन तेरी मोहब्बत के बिना ना जी पाएंगे.” 
“पगली तेर लिये इस दिल ने कभी बुरा नही चाहा, ये और बात है मुझे साबित करना नहीं आया..!!” 
“दो हिस्सों में बंट गए हैं, मेरे दिल के तमाम अरमान। कुछ तुझे पाने निकले, तो कुछ मुझे समझाने निकले.!” 
“कुछ पाबंदी भी लाज़मी है… दिल्लगी के लिए. किसी से इश्क़ अगर हो.. तो बेपनाह न हो.!!” 
बहुत खूबसूरत निशानी एक रखी है मेरे पास तुम्हारी,,, मेरी किताब मैं बनाया दिल मेरा , और उसपर चलाया हुआ तीर तुम्हारा… 
“ग़म का हीरा दिल में रखो किसको दिखाते फिरते हो ये चोरों की दुनिया है … !” 
“अजब जज्बा है इश्क़ करने का ……!!! उम्र जीने की है ..ओर.. शौक मरने का..!!!” 
हमने दिल वापस मांगा तो वो सर झुका कर बोला , वो तो टूट गया खेलते-खेलते’
““वो जो हमसे नफरत करते हैं, हम तो आज भी सिर्फ उन पर मरते हैं, नफरत है तो क्या हुआ यारो, कुछ तो है जो वो सिर्फ हमसे करते हैं।”” 
अजीब रंग में गुजरी है जिंदगी अपनी.दिलो पर राज़ किया और मोहब्बत को तरसे
“छोङो ना यार , क्या रखा है सुनने और सुनाने मेँ किसी ने कसर नहीँ छोङी दिल दुखाने मेँ ! “ 
“गलतफमिया की हद पता हैं कब हुई जब मैने उससे कहा, रुको. मत जाओ और उसने सुना. रुको मत. जाओ..!!” 
”इरादे तो अम्बुजा सीमेंट की तरह मजबूत थे. कमबख्त. दिल ही सरकारी पुलिया जैसा कमजोर निकला..!!” 
“आज कोई एक बुरी आदत छोडनी है कमब्खत तय केसै करु ना सीगरेट छौड सकता हु ना तुम्है.” 
“कभी चोट खाई…कभी दिल संभाला, मुहब्बत भी एक खेल था… खेल डाला..!!” 
“मैं तो सीफॅ दील से लीखता हुं, पर लोग न जाने क्युं. दील पे ले लेते हैं !” 
“लगता है खुदा ने दिल बनाने का काँन्ट्रेक्ट चाईना को दे दिया है. आज कल बहुत टूट रहे हैं.!” 
“दिल भी आज मुझे ये कह कर डरा रहा है, करो याद उसे वरना मैं भी धडकना छोड़ दूंगा. 
“जब मिलो किसी से तो जरा दूर का रिश्ता रखना,बहुत तङपाते हैँ अक्सर सीने से लगाने वाले…” 
“आज तो दिल भी धमकियाँ दे रहा है। कर याद उसे वरना धड़कना छोड़ दूंगा।” 
“नादान है मेरा दील कैसे समझाऊं की तु जीसे खोना नहीं चाहता… वो तेरा होना नहीं चाहता…” 
“जब वो मिले हमसे अरसे बाद तो उन्होने पूछा हाल-चाल कैसा है, तो मैने कहा तुम्हारी चली चाल से मेरा हाल बदल गया,” 
“तुमको छुपा रखा हे इन पलकों मे,पर इनको ये बताना नहीं आया,सोते हुए भीग जाती हे पलके मेरी,पलकों को अब तक दर्द छुपाना नहीं आया…” 
“इस मोहब्बत की किताब के दो ही सबक याद हुये, कुछ तुम जैसे आबाद हुये, कुछ हम जैसे बर्बाद हुये….!” 
““इश्क” का धंधा ही बंघ कर दिया साहेब। मुनाफे में “जेब” जले.. और घाटे में “दिल”” 
“पगली तेर लिये इस दिल ने कभी बुरा नही चाहा, ये और बात है मुझे साबित करना नहीं आया..!!” 
“तू इतना प्यार कर जितना तू सह सके, बिछड़ना भी पड़े तो ज़िंदा रह सके….!! 
“रूप का आकर्षण प्यार नही होता हर किसी पे ना मर छोरे क्योकि हर के पास सच्चा प्यार नही होता” 
बिन बात के ही रूठने की आदत है;किसी अपने का साथ पाने की चाहत है;आप खुश रहें, मेरा क्या है;मैं तो आइना हूँ, मुझे तो टूटने की आदत है. 
“ऐ ‘ख़ुदा’ तू कभी इश्क न करना.. बेमौत मरा जायेगा ! हम तो मर के भी तेरे पास आते है पर तू कहा जायेगा” 
“दिल की बात होठों तक आते आते रह गयी, कुछ तो था तेरी निगाहों में, जो हमसे कहते कहते रुक गयी।” 
“आज तक ऐसा कोई मिला नही ! जो इस ‪#‎नवाब दिल ♡ को ‪#‎गुलाम बना सके…” 
“ख्वाहिश ये कि तू मेरी हो, या फिर ये ख्वाहिश तेरी हो…” 
“जब चाहूँ तुम्हे मिल नहीं सकता, लेकिन जब चाहूँ तुम्हे याद कर सकता हूँ .” 
“कौन देता है उम्र भर का सहारा , लोग तो जनाजे में भी कंधे बदलते रहते हैं.” 
“मे दील मे सबको आने का मौका देता हूँ पर तुम शक ना करो, तुम जहा बस्ती हो यकींन मानो में वहा किसको जाने नही दूंगा…” 
“तु तो Online होने पर भी मैसेज का Reply नहीँ करती पगली, और हम हैँ कि मैसेज डेलीवेरेड देख के खुश हो लेते है…” 
“यकीन करो मेरा ,लाख कोशिशें कर चुका हूँ मैं ना सीने की धड़कन रुकती है, ना तुम्हारी याद!” 

Leave a Reply